‘Google’ का नाम ‘Google’ क्यों रखा गया

'Google' का नाम 'Google' क्यों रखा गया

Sharing is caring!

‘Google’ का नाम ‘Google’ क्यों रखा गया

‘Google’ का नाम ‘Google’ क्यों रखा गया

‘Google’ शब्द का मीनिंग होता है 100 यानी कि आपने 1 चीज को सर्च किया तो उसके 100 रिजल्ट आपके सामने आएंगे.

इसीलिए ‘Google’ का नाम ‘Google’ रखा गया.

‘Google’ के आविष्कार से हमारे लाइव काफी आसान बन गई है.

‘Google’ 21वी सदी का ऐसा इंवेंशन है जिसने ह्यूमन लाइफ को बहुत ही आसान बना दिया  है.

आज के जमाने में ‘Google’ ही हमारा अच्छा दोस्त बन गया है अगर आपको किसी चीज की जरूरत होती है. तो आप ‘Google’ ओपन कर कर उससे अपने सवाल पूछते हो.

अगर आपको दुनिया भर की कोई भी इंफॉर्मेशन चाहिए.

वह Google पर आसानी से मिल जाती है.

Google के बिना हमारी जिंदगी अधूरी है.

लेकिन क्या आप जानते हो Google का पहला नाम क्या था 1998 में जब Google की शुरुआत हुई थी तब उसका नाम था बॅकरब

बॅकरब 1997 जब यह नाम इस सर्च इंजन को दिया गया तो लोगों ने इसे इतना खास पसंद नहीं किया.

इसके  नाम बदलने के लिए बहुत सारे चर्चा हुई. लेकिन बाद में मैथमेटिक्स की थेरी के ऊपर इसका नाम रखा गया .

Google इसका अर्थ होता है 100 यानी कि आप कुछ भी सर्च करो तो इस पर आपको 100 सर्चस मिलेंगे. इसीलिए इसका नाम Google पर रखा गया.

दुनिया भर से इंफॉर्मेशन को इकट्ठा करने मुख्य काम इस वेबसाइट का था.

बाद में कंपनी ने यूजर के अनुसार अपने साइड में परिवर्तन किया और नतीजा आपके सामने है.

Google आपको इंफॉर्मेशन के साथ ही आपको बहुत सारी चीजों का ख्याल रखता है.

वक्त के साथ Google ने अपने कंपनी में बहुत सारे इंप्रूवमेंट किए हैं Google से आप पैसे कमा सकते हो पैसे ट्रांसफर कर सकते हो Google आज के जमाने में सबसे बेस्ट साइट है जो यूजर का काफी ख्याल रखती है।

लेकिन Google का नाम बॅकरब” पहले क्यों था.

अमेरिका में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में सीखने वाले लैरी पेज और सर्गे ब्रिन इन दोनों ने Google की स्थापना की

टाइटेनिक जहाज के 73 इयर्स पहले के फोटो मिलने से Google दुनिया के सामने आया।

उन्होंने जो इंफॉर्मेशन ढूंढी वह सही थी या नहीं.

यह जानने के लिए वह बैक लिंग के साथ अन्य वेबसाइट का भी यूज़ करते थे.

इसीलिए उन्होंने इसका पहला नाम बॅकरब रखा था.

 

249 total views, 2 views today

You May Also Like

About the Author: sonu@007

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares
error: Content is protected !!