You are here
Home > wisdom >

1200 किलो सोने का था शहाजहांन का मयूरासन

1200 किलो Gold का था Shah Jahan का Peacock Throne

Sharing is caring!

1200 किलो Gold का था Shah Jahan का Peacock Throne

Wisdom 365

मोगल काल में Shah Jahan के बड़े बड़े शौक थे. Shah Jahan को बड़े बड़े इमारत और वस्तुए बनाने का शौक था.

आग्रा में स्थित ताजमहल और दिल्ली में का लाल किल्ला Shah Jahan की ही देन है.

उसी में से एक था, Peacock Throne यह Peacock Throne 1200 किलो सोने से बना हुआ था. यह आसन बनाने के लिए उस वक्त 2.9 करोड़ रूपये खर्च आया था.

अब्दुल हमीद लाहोरी लिखित “बादशाह नामा” में इस किताब में इस आसन वर्णन मिलता है.

बेबादल खान नाम के एक व्यक्तिने इस Peacock Throne को 1200 किलो सोने से बनाया था.

यह Peacock Throne बनाने के लिए उसे ७ साल का समय लगा था.

नादिरशाहने १७३९ में भारत पर आक्रमण करके भारत को पूरी तरह से लूटमार की, और इसी लूटमार में Shah Jahan का सबसे किमती और मूल्यवान चीज यानि के Peacock Throne अपने साथ पर्शिया ले गया और वहा पर इसे तोड़ दिया.

जब Shah Jahan को मुग़ल शासन का बादशाह घोषित किया तब उसे नजराने में बहुत नायब चीजे भेट में दी गई थी.

जैसे की हात्ती, घोड़े, तलवार जैसे बेष किमती रत्न दिए गए थे.

इथोपिया के सरदारों ने बादशाह को गुलाम भी गिफ्ट दिए थे.

Shah Jahan को सुंदर इमारत बनाने का इतना शोक था की उसे अपने दादाजीका यानि के जहांगीर बादशाह ने बनाया हुआ माहाल तोड़कर उस जगह अपने मनमुताबित नया महाल बनाया था.

Peacock Throne Current Location

The peacock throne was then kept in Red Fort and is now kept in Topkapi Palace. On 12th March, 1635, Shah Jahan sat for the first time on this Peacock throne which was adorned with Gold, had a red and green enamel wash, was decorated with rubies, emeralds, and pearls.

टर्की के Istanbul Museum इस वक्त Shah Jahan का मयूरासन है.

1200 किलो Gold का था Shah Jahan का Peacock Throne

Sharing is caring!

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!